Saturday, June 3, 2017


तुम  मुझसे  कह  सको 
और  में  तुम्बे  सुन  सकू 
ये  ज़रूरत  तो  नहीं. 

रास्तें  अलग  हैं  लेकिन 
ख्वाब  भी  अलग  हो   
ये  ज़रूरत  तो  नहीं.

परेशां हु  में  
नादाँ तन्हाई  को  कैसे  दफनाओ 
तुम्हारी  परछाई  को  छूकर  
तुम्हें  भी  आग़ाज़  मिल  जाये 
ये  ज़रूरत  तो  नहीं. 

No comments:

Post a Comment